बिलासपुर: तैयार रहिए एक बार फिर भुगतने को… अशोक नगर में अमृत मिशन का कहर… बिरकोना में हो गई है खुदाई… चुनाव के बाद बिलासपुर शहर में भी सीवरेज से भी बड़े-बड़े गड्‌ढे खोदे जाएंगे… पढ़िए सोनाली श्रीवास्तव की रिपोर्ट…

सोनाली श्रीवास्तव।बिलासपुर

  • सीवरेज सिस्टम को अमलीजामा पहनाने के लिए जो कहर बरपाया गया था, उसका जख्म अभी ठीक से भरा भी नहीं है कि अमृत मिशन के लिए सड़कों की खुदाई शुरू हो गई है। अशोक नगर में टैंक और प्लांट बनाने के लिए बड़े-बड़े गड्‌ढे खोद दिए गए हैं। चुनाव के बाद यह कहर बिलासपुर शहर पहुंचेगा और एक बार फिर जनता को सीवरेज जैसा दंश झेलना पड़ेगा। यानी कि शहर में जो सड़कें चकाचक दिख रही हैं, वो सिर्फ चुनावी मरहम है। इसके बाद फिर से उन जख्मों को कुरेदा जाएगा।

  • बताते चलें कि बिलासपुर शहर में गर्मी के सीजन में पानी का संकट हर साल खड़ा हो जाता है। टैंकर से भी पानी की सप्लाई अपर्याप्त होती है। शहरवासियों की प्यास बुझाने के लिए सरकार ने अमृत मिशन प्रोजेक्ट लाया है। इसके तहत खूंटाघाट से बिलासपुर शहर तक पानी लाया जाएगा।
  • इसके लिए सड़क पर बड़ी-बड़ी पाइप डाली जाएगी। जाहिर है, पाइप डालने के लिए खुदाई करनी पड़ेगी। अमृत मिशन का ठेका हुए एक साल से ज्यादा हो गए हैं, लेकिन काम अभी शुरू हुआ है। दरअसल, सामने विधानसभा चुनाव था। बिलासपुर शहर के लोग सीवरेज का दंश नहीं बुले हैं।

  • ऐन चुनाव के समय खुदाई होने से एक बार फिर लोगों का जख्म ताजा हो जाता। अलबत्ता, सड़क किनारे डंप पाइप को उठवा लिया गया और काम रोक दिया गया। जनता को यह बताने की कोशिश की गई कि अब सीवरेज का काम बंद हो चुका है। अब यहां किसी तरह की खुदाई नहीं होगी।
  • सड़कें भी चकाचक बना दी गई हैं, ताकि जनता को लगे कि उनकी परेशानियों का अंत हो गया है, लेकिन ऐसा नहीं है। अमृत मिशन के लिए अशोक नगर बिरकोना में वॉटर टैंक और वॉटर हार्वेस्टिंग प्लांट निर्माण के लिए खुदाई की जा चुकी है। वहां रोजाना ठेकेदार के वर्कर काम कर रहे हैं। वहां करीब एक साल से वॉटर हार्वेस्टिंग प्लांट और टंकी बनाई जा रही है, जिसे लेकर गांववासियों को उस सड़क से आने-जाने और धूल के गुबार के कारण तकलीफ उठानी पड़ रही है।

  • अटल नवीनीकरण और शहरी परिवर्तन मिशन के अंतर्गत वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट का निर्माण और संचालन किया जा रहा है, जिसकी लागत 201.14 करोड़ रुपए है। इसे 2020 तक खत्म किया जाना है, लेकिन काम लगातार धीमी गति से चल रहा है।
  •  इसमें अलग-अलग ठेकेदार पानी टंकी और वॉटर हार्वेस्टिंग प्लांट बना रहे हैं, जहां से पाइप के माध्यम से पूरे शहर में पानी की सप्लाई की जाएगी। जाहिए है, पाइप बिछाने के लिए सड़कों की खुदाई करनी पड़ेगी। ये पाइप सीवरेज प्रोजेक्ट में डाली गई पाइप से बड़ी है।
  • यानी कि सीवरेज से भी बड़े-बड़े गड्‌ढे खोदे जाएंगे। सूत्र बात रहे हैं कि विधानसभा चुनाव के बाद कभी भी अमृत मिशन के लिए शहर की सड़कों की खुदाई शुरू हो जाएगी।

इंजीनियर ने कहा- शहर की खुदाई की जाएगी

  • आजकल.इंफो को ठेका कंपनी के इंजीनियर और सुपरवाइजर ने बताया कि खूंटाघाट से यहां पानी स्टोर करके पूरे शहर में पाइप द्वारा सप्लाई की जाएगी। इसमें पूरे शहर में खुदाई कर पाइप लाइन बिछाई जाएगी। बाहर के प्रोजेक्ट और वर्कर होने की वजह से बरसात और दिवाली की छुट्टी के कारण काम में थोड़ा समय लगा है। 50 से अधिक वर्कर एक प्रोजेक्ट में काम कर रहे हैं, लेकिन समय प्रोजेक्ट में पूरा कर लिया जाएगा।

सम्बंधित ख़बरें

Leave a Comment