बिलासपुर: 64वें राष्ट्रीय स्कूली खेल प्रतियोगिता का समापन… महाराष्ट्र बना ओव्हरआॅल चैम्पियन…विधायक शैलेष बोले- हार-जीत से ज्यादा महत्व खेल भावना का है…

बिलासपुर।

  • बिलासपुर में चल रहे 64वें राष्ट्रीय स्कूली खेल प्रतियोगिता का आज पुलिस ग्राउण्ड में आयोजित रंगारंग समारोह के साथ समापन हुआ। इस प्रतियोगिता में महाराष्ट्र के खिलाड़ियों ने ओव्हरआॅल चैम्पियनशिप का खिताब हासिल किया। 
  • इस अवसर पर बिलासपुर के विधायक शैलेष पाण्डेय मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। श्री पाण्डेय ने कहा कि यह गर्व की बात है कि बिलासपुर को हर वर्ष राष्ट्रीय खेल की मेजबानी का अवसर मिलता है। खेल में कोई विजेता रहता है और कोई हारता है, लेकिन हार भी हमें शिक्षा देती है कि आने वाले समय में फिर से मेहनत करें और मेडल हासिल करें। हार-जीत से ज्यादा महत्व खेल भावना का है। 
  • कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए नगर निगम के महापौर किशोर राय ने कहा कि खेल हमारे जीवन का अनिवार्य अंग होना चाहिए। खेल से शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य ठीक रहता है। उन्होंने कहा कि विभिन्न स्थानों से आये हुए खिलाड़ियों ने तीन दिन बिलासपुर में बिताया और खट्टे-मीठे अनुभव हुए। खट्टे अनुभव छोड़कर जाये और मीठे अनुभव साथ में लेकर जायें। खिलाड़ियों का उत्कृष्ट प्रदर्शन देखकर यहां के खिलाड़ियों को भी प्रेरणा मिली है।
  • जिला शिक्षा अधिकारी आर.एन.हीराधर ने प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि 22 राज्यों के 924 बालक-बालिकाओं ने किकबाॅक्सिंग, रोलबाल और रोप स्किपिंग प्रतियोगिता में भाग लिया। इन प्रतियोगिताओं में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ियों को 150 स्वर्ण, द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले को 158 रजत और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले को 192 कास्य पदक, इस तरह कुल 500 पदक खिलाड़ियों को प्रदान किये गये। 
  • कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि एनटीपीसी सीपत के समूह प्रबंधक ए.आर. सामंता ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर खिलाड़ियों ने आकर्षक मार्चपास्ट किया। सर्वश्रेष्ठ मार्चपास्ट के लिए केन्द्रीय विद्यालय संगठन की टीम को पुरस्कृत किया गया और इसी तरह सर्वश्रेष्ठ अनुशासन के लिए जम्मू कश्मीर की टीम को पुरस्कार मिला। इस अवसर पर शासकीय उ.मा. कन्या विद्यालय सरकण्डा और शासकीय उ.मा.विद्यालय तिफरा की छात्राओं ने छत्तीसगढ़ी लोकनृत्य प्रस्तुत किया। अंत में विजेता खिलाड़ियों को पुरस्कार वितरण किया गया। 
  • कार्यक्रम में विधायक रजनीश सिंह, सहायक कलेक्टर  कुणाल दुद्वत, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी  फरिहा आलम सिद्दकी, स्कूल गेम फेडरेशन आॅफ इंडिया के अधिकारी, विभिन्न राज्यों से आये हुए कोच, प्रबंधक एवं अधिकारी, शिक्षा विभाग के अधिकारी-कर्मचारी, शिक्षक-शिक्षिकाएं तथा खिलाड़ी, छात्र-छात्राएं बड़ी संख्या में उपस्थित थे। 

64वीं राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिता का परिणाम इस प्रकार रहा – 

  • रोप स्किपिंग बालक 14 वर्ष में प्रथम दिल्ली, द्वितीय मध्यप्रदेश और तृतीय विद्या भारती व केन्द्रीय विश्वविद्यालय संगठन रहे। इसी प्रकार बालिका 14 वर्ष में प्रथम केन्द्रीय विद्यालय संगठन, द्वितीय छत्तीसगढ़ और तृतीय दिल्ली रही। बालक 17 वर्ष आयुवर्ग प्रथम दिल्ली, द्वितीय मध्यप्रदेश और तृतीय छत्तीसगढ़ रहे। बालिका 17 वर्ष आयुवर्ग प्रथम दिल्ली, द्वितीय केन्द्रीय विद्यालय संगठन और तृतीय गोवा रही।
  • रोल बाल बालक 17 वर्ष आयुवर्ग में प्रथम राजस्थान, द्वितीय सीबीएसई और तृतीय महाराष्ट्र, बालिका 17 वर्ष आयुवर्ग में प्रथम महाराष्ट्र, द्वितीय झारखण्ड और तृतीय गुजरात रहा। किक बाॅक्सिंग प्रतियोगिता में बालक 17 वर्ष आयुवर्ग में प्रथम महाराष्ट्र, द्वितीय छत्तीसगढ़ और तृतीय पंजाब, बालिका 17 वर्ष में प्रथम महाराष्ट्र, द्वितीय छत्तीसगढ़ और तृतीय दिल्ली रही। बालक 19 वर्ष आयु वर्ग में प्रथम महाराष्ट्र, द्वितीय दिल्ली और तृतीय पंजाब तथा बालिका 19 वर्ष आयुवर्ग में प्रथम महाराष्ट्र, द्वितीय दिल्ली और तृतीय छत्तीसगढ़ रहा।

सम्बंधित ख़बरें

Leave a Comment