छत्तीसगढ़: एसईसीएल की खदानों से 90 हजार टन कोयला चोरी… ट्रांसपोर्टर पर एफआईआर… डीओ जारी करने वाले अफसर को अभयदान… सदन में जमकर उछला मामला… गृहमंत्री ताम्रध्वज ने दिया यह जवाब…

रायपुर। कोरबा जिले की एसईसीएल खदानों से कोयला चोरी के मामले में ट्रांसपोर्टर पर कार्रवाई हो गई, लेकिन डीओ जारी करने वाले अफसर पर अब तक कार्रवाई होने के मामले को लेकर सदन में जमकर हंगामा मचा। बीजेपी विधायक सौरभ सिंह ने यह मामला उठाते हुए कहा कि 90 हजार टन कोयला के लिए बालको के वाइस प्रेसिडेंट कंवलजीत सिंह सलूजा ने अवैध तरीके से ट्रांसपोर्टर श्रवण पोद्दार को डीओ जारी किया। सीजेएम के आदेश पर श्रवण के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई, लेकिन डीओ जारी करने वाले बालको के वाइस प्रेसिडेंट कवलजीत सलूजा के खिलाफ एफआईआर दर्ज क्यों नहीं की गई।

उन्होंने कहा कि 90 हजार टन कोयले का डीओ तीन खदान से जारी होता था। एक खदान कर्मचारी पर कार्रवाई हुई। 2 खदानों पर एफआईआर क्यों नहीं की गई। गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि यह घटना 2016-17 की थी। सरकार बीजेपी की थी। उस समय आखिर क्यों जांच नहीं कराई गई।  दो साल से अपराधियों को आप लोगों ने बचाया। बड़े से बड़े आदमी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। चाहे कोई बड़ा अधिकारी हो, पुलिस वाला हो या फिर नेता हो।

जोगी कांग्रेस के सदन के नेता धर्मजीत सिंह ने कहा कि जिन लोगों का नाम सामने आ रहा है, वो लोग इतने बड़े हैं कि एसडीओपी स्तर के अधिकारी कार्रवाई नहीं कर पाएंगे। क्या आईपीएस स्तर के अधिकारी से इसकी जांच कराई जाएगी। गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि जरूरत पड़ी तो आईपीएस स्तर के अधिकारियों से भी जांच कराई जाएगी।

सम्बंधित ख़बरें

Leave a Comment