नान घोटाला: ACB चीफ ने जांच टीम में शामिल रहे निरीक्षक को किया सस्पेंड…कोर्ट में केस के साथ-साथ चालान पेश करने वाले TI को निलंबन का जारी किया आदेश…मुख्यालय किया गया अटैच…

रायपुर।

  • नान घोटाले को लेकर सरकार दारा जनवरी की पहली तारीख को नान घोटाले के लिए SIT गठित करने का फैसला लिया गया और अब दो दिन बाद ही नान घोटले की जांच में शामिल एक अधिकारी सस्पेंड कर दिया गया है। ईओडब्ल्यू में तैनात नान घोटाले के जांच अधिकारी रहे संजय दिनकर देवस्थले को एसीबी चीफ डीएम अवस्थी ने निलंबित कर रायपुर हेडक्वार्टर अटैच कर दिया है।

  • टीआई संजय देवस्थले ने नान घोटाले को लेकर कोर्ट में केस पेश किया था, वहीं अभी पूरक चालान भी उन्होंने ही पेश किया था। फरवरी 2015 में नान के मुख्यालय सहित अलग-अलग ठिकानों पर 22 टीमों पर सीरियल छापे मारे थे। एंटी करप्शन ब्यूरो के एसपी रजनेश सिंह खुद मुख्यालय में छापा मारने पहुंचे थे। बाद में जांच के दौरान कई तरह के बदलाव किए गए। छापा मारने के बाद एफआईआर डीएसपी आरके दुबे ने की थी।
  • आरोप था कि इस मामले में तत्कालीन राज्य सरकार ने जो जांच टीम बनायी थी, वो जांच टीम की कार्यप्रणाली संदिग्ध थी। जांच  में गंभीर लापरवाही बरती गयी थी। आरोप था कि जांच के दौरान टीम ने कई पक्षपातपूर्ण कार्रवाई की, कई गंभीर आरोपों की घोटाले में जांच ही नहीं हुई, वहीं कई डायरी में दर्ज कई नामों से पूछताछ तक नहीं की गयी।
  • जांच टीम की संदिग्धता को देखते हुए ही पिछले दिनों नान घोटाले सहित कई प्रकरणों में शामिल जांच टीम को भंग कर दिया गया था। एसआईटी इस पूरे प्रकरण की अब नये सिरे से जांच करेगी। आईजी के नेतृत्व में ये जांच टीम अपना काम जल्द शुरू करेगी, लेकिन उससे पहले ही एसीबी चीफ ने एक निरीक्षक को सस्पेंड करने का आदेश जारी कर दिया है।

     

सम्बंधित ख़बरें

Leave a Comment