छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव: सत्ता में वापसी के लिए कांग्रेस रख रही फूंक-फूंककर कदम… जानिए कांग्रेस की क्या है रणनीति…

रायपुर।

  • 15 साल से सत्ता से दूर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने इस बार विधानसभा चुनाव में जीत सुनिश्चित करने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है। राज्य सरकार के खिलाफ लगातार आक्रामक रुख अख्तियार कर कांग्रेस इस बार प्रत्याशी चयन में भी फूंक-फूंककर कदम रख रही है। राजनांदगांव के साथ ही रायपुर पश्चिम सीट पर सबकी निगाहें टिकी हुई हैं, क्योंकि इन दो सीटों पर कांग्रेस और भाजपा के बीच कांटे का टक्कर होना तय है।
  • इसी कड़ी में कांग्रेस ने अभी तक प्रत्याशियों के नामों को फाइनल भी नहीं किया है। भाजपा और कांग्रेस दोनों के ही रणनीतिकार एक-दूसरे के उम्मीदवारों की सूची आने का इंतजार कर रहे थे। इस मामले में कांग्रेस ने बाजी मार ली है। राजनीति के जानकारों की माने तो कांग्रेस सत्तासीन भाजपा के पत्ते खुलने (अधिकृत प्रत्याशियों की घोषणा) का इंतजार कर रही थी।
  • आखिरकार भाजपा ने अपने पत्ते फेंक दिए हैं। अब कांग्रेस के रणनीतिकार गंभीर मंथन में जुट गए हैं। राज्य के 90 सीटों पर कांग्रेस और भाजपा का सीधा मुकाबला तय है। भाजपा ने 90 सीटों में से 77 सीटों के लिए अपने अधिकृत प्रत्याशियों के नाम घोषित कर दिया है। अब कांग्रेस इन नामों के टक्कर में अपने प्रत्याशी फाइनल करने में जुट गई है।
  • कल रात विधानसभा सीटों के लिए कांग्रेस की मैराथन बैठक भी चली। राज्य में सबसे अधिक महत्वपूर्ण और चर्चित मुख्यमंत्री के विधानसभा सीट राजनांदगांव में पार्टी की ओर से अधिकृत प्रत्याशी कौन होगा? मुख्यमंत्री के मुकाबले में कौन सा प्रत्याशी कांटे की टक्कर देगा? इस तरह के तमाम बिंदुओं पर गहन मंथन किया गया।
  • इसके अलावा राजधानी रायपुर के चर्चित पश्चिम विधानसभा सीट को लेकर भी गहन मंथन किया गया। भाजपा की ओर से इस सीट पर मंत्री राजेश मूणत को अधिकृत प्रत्याशी बनाया गया है। इधर कांग्रेस के पूर्व जिला अध्यक्ष विकास उपाध्याय लगातार मंत्री मूणत को टॉरगेट करते आए हैं।
  • क्षेत्र में जहां विकास कार्य की सौगात देकर मंत्री मूणत ने जनता में अपनी पैठ बढ़ाने का प्रयास किया है तो वहीं विकास उपाध्याय भी मंत्री को बराबर की टक्कर देकर और जनहित के कामों में आगे रहकर जनता में अपनी पैठ बढ़ा ली है। पिछले चुनाव में भी विकास उपाध्याय ने भाजपा को जोरदार टक्कर दी थी। बहरहाल, राज्य की अन्य सीटों पर भी घमासान मचने के आसार हैं, लेकिन जनता की निगाह राजनांदगांव और रायपुर पश्चिम विधानसभा सीट पर टिकी हुई है।

सम्बंधित ख़बरें

Leave a Comment